Chirag Ki Kalam ( चिराग की कलम )

जिंदगी का नशा ही काफी है ……

Poetry For Moon High School

Poetry For Moon | गुजारिश इतनी सी ….

ऐ चाँद आज धीरे चल, चाँदनी के साथ तू भी मचल  आज तू तारो को भी रोक ले , मदहोश हो जा तू भी मोहब्बत के नशे में    ऐ चाँद आज अमावस तो नहीं हैं  फिर भी तू कही Read more…

Follow us on Social Media