Chirag Ki Kalam ( चिराग की कलम )

जिंदगी का नशा ही काफी है ……

Stories

Hindi Short Story Writing

धुआ ….ना जाने किस ओर ले जाये Short Story Writing हर कश मे धुआ उड रहा था और हर पल मे उसे ये अहसास हो रहा था के उसने जिंदगी मे जो भी खोया वो अब पाना आसान नही है.कहते Read more…

Article on Life | अंत ही आरंभ है

मॉ की गोद मे जब मे सिसकिया लेकर रो रहा था, आंखो मे आंसू कम आवाज़ मे ज़ोर ज्यादा था । तभी अचानक एक खिलौने ने मेरी आवाज़ को एक मुस्कुराहट मे बदल दिया और अगले पल मे वो खिलौना Read more…

Love Story Book | कुछ किताबे तुम जैसी है

कुछ किताबे तुम जैसी है । पुरी होने पर भी अधुरी सी है । उनके हर पन्ने पर एक निशान बनाया है मैंने और ये निशान तुम्हारे साथ बिताये लम्हो की यादे है । किताब मे कुल मिलाकर बस 365 Read more…

Half Girlfriend Movie | दोस्त से ज्यादा, पर गर्लफ्रेंड,बायफ्रेंड से कम

दोस्त से ज्यादा, पर गर्लफ्रेंड,बायफ्रेंड से कम कहाँनीया कब और कहा बन जाये हम कह नही सकते, पर एक ऐसी जगह है जहा हर रोज़ , हर पल एक कहाँनी जन्म लेती है । ये जगह शायद इसिलिये ही बनी Read more…

Hindi Short Story | आखरी गलती

आखरी गलती राजीव ने अपने पेन को ऊठाकर अंगूठे और उसके पास वाली उंगली से घुमाने लगा . इस तरह पेन को घुमाने की कला हर कॉलेज़ जाने वाला स्टूडेंट को कक्षा 12वी से ही आ जाती है. इस कला Read more…

Short Story On Drug | मौत के सौदागर

मौत के सौदागर शाम ढल रही थी और ठंडी हवाए उसके चेहरे को सहला कर  उसके कान में अपना पता बता रही थी। हवाओ के आलिंगन से उसका शरीर बर्फ में बदलने को आतुर हो रहा था। उसका दिमाग बार-बार Read more…

Letter To Ex Girlfriend | बेवजह

मैं आज फिर डाकिये को बेवजह डाट रहा था,पुचकार रहा था.सच तो ये हैं के तुने आज भी मेरे खत का जवाब नही भेजा हैं.ना जाने तू किस बात से डर रही हैं. दुनिया से …इस दुनिया से तो बिलकुल Read more…

College Short Story | बदलता दौर

  रविवार का दिन था. दोपहर का समय था. खाना खाने के बाद अखबार से गुफ्तुगू कर रहा था. बीच- बीच में नींद भी अपने आने का सन्देश  झपकियो से भेज रही थी. पर बालीवुड और शहर की चटपटी खबरे Read more…

Follow us on Social Media