Chirag Ki Kalam ( चिराग की कलम )

जिंदगी का नशा ही काफी है ……

Poems

Karwa Chauth Poem

मैं रहूंगा जब तू सुबह उठ कर अपनी जुल्फो को सवार रही होगी ,तब सुबह की उस ताज़गी मे ,मैं रहूंगा  …   मुस्कुरा कर जब तू आइने मे देख रही होगी खुद को ,तब उस आइने मे संग तेरे,मैं Read more…

Writing A Poem

  मैंने आज फिर कलम उठाई है   कोरे कागज़ पर अल्फाजो की बहार आई है,अहसासो ने फिर दिल मे एक धुन बजाई है,बहुत दिन हुये ….मैंने आज फिर कलम उठाई है   नये दौर मे एक नयी आवाज़ आई Read more…

Poems On Rain | बूंद

  खुशी हो या हो गम के दिन,साथ हमेशा रहती है…. बूंद, ढलती शाम कहु इसे या सुबह की लाली,साथ हमेशा रहती है … बूंद    हर पल को देखकर ,अपने अस्तित्व को बताने …बाहर आ जाती है …बूंद    Read more…

Poetry Heart | कुछ कहता हैं दिल

  मेरा दिल कुछ कहता हैं,हमेशा नए सवाल ये पूछता हैं क्यों मिलकर जुदा होते हैं हम ,क्यों आते हैं आंसू खुशियों के बादक्यों तडपाती हैं याद किस बिनाह पर हम करते हैं प्यार ,जबकि नहीं होता इसमे कागज़ पर Read more…

Poem On World | चल रही हैं दुनिया

    धोखे पर ही चल रही हैं दुनिया,जो सच कहा मैंने तो मुझे गुनहगार कह रही हैं दुनिया   इंसान ही इंसान को जानवर कह रहा हैं,जानवरो का तो गोश्त खा रही हैं दुनिया ना अपने की फिक्र,ना पराये Read more…

Hindi Short Poetry

जरा सा रुक कर देखना कभी जरा सा रुक कर देखना कभी कब्रिस्तान मे भी,शायद कोई अभी भी जिंदगी की जंग लडता हुआ मिल जायेजरा सा रुक कर देखना कभी उस टुटे मकान मे भी,शायद अभी भी कोई सपनो के Read more…

Poem On Unknown | वो

  मेरे हर सफ़र का साथी था वो   ना जाने कब हवा चली और धुँआ हो गया वो     मेरी हर नजर का  दर्पण था वो   ना जाने कब धुप गई और अँधेरा हो गया वो   Read more…

Love Friendship | इश्क होता हैं दोस्ती के बाद

इश्क होता हैं दोस्ती के बाद ,नशा चढ़ता हैं  शाम के बाद   शोला यूँ तो धडकता नहीं दिल में ,लगती हैं आग मन मेंजब देखता हूँ तुझे किसी और के साथ ,     इश्क होता हैं दोस्ती के Read more…

90’s Childhood | काश वापस आ जाये

  काश वो दिन फिर आ जाये   पेंसिल की नौक फिर टूट जाये    नौक करने के बाद के छिलके को पानी में डुबाये    काश वो दिन फिर आ जाये        काश वो रबर फिर घूम Read more…

Follow us on Social Media