Posts

Showing posts from August, 2017

Love Story Book | कुछ किताबे तुम जैसी है

Image
कुछ किताबे तुम जैसी है । पुरी होने पर भी अधुरी सी है । उनके हर पन्ने पर एक निशान बनाया है मैंने और ये निशान तुम्हारे साथ बिताये लम्हो की यादे है । किताब मे कुल मिलाकर बस 365 पन्ने है । हर पन्ने को हर दिन एक –एक करके पढता हू और जिस साल मे 366 दिन होते है, उस दिन उस साल एक खास पन्ने को दो दिन तक पढ्ता हू । ये वही पन्ना है जिसमे किताब के हीरो ने हीरोईन को पहली बार मेले मे देखा था । तुम्हे याद है वो मेला जब तुम वो रिंग वाले स्टाल पर उस ताजमहल की मूरत को पाने की कोशिश कर रही थी और जब-जब तुम कामयाब नही हो रही थी तो गुस्से मे सर को जोर से हिला रही थी । जिसके कारण तुम्हारी जुल्फो से एक लट बाहर आ जाती थी । ये लट तुम पर बहुत खूबसूरत लग रही थी ठीक वैसे ही जैसे किताब मे किस पन्ने तक पढा है वो याद रखने के लिये एक रेशम सा चमकदार धागा होता है ।  वो धागा जैसे किताब की खूबसूरती मे चार चांद लगा देता है । ठीक वैसे ही वो लट तुम्हारी खुबसूरती को बढा रहा थी । या तो उस दुकान वाले की उम्र ज्यादा होगी या फिर वो अपनी बीवी या गर्लफ्रेंड से डरता होगा । वर्ना मै उसकी जगह होता तो अपने हाथो से वो ताज़महल तुम्हारे ह

Friendship Poem In Hindi | वो था दोस्त

Image
  Friendship Poem In Hindi बचपन मे जब पार्क मे जाता था, तो मेरे लिये जो झुला-झुलने का नबंर लगाता , मेरी पेंसिल की नोंक टूट जाने पर , अपनी पेंसिल को तोड्कर जो देता , वो था दोस्त,   टिफिन मे जो मेरी पसंद का खाना लेकर आता, किसी से भी मेरी खातिर जो भिड जाता, टीचर अगर मुझे क्लास से बाहर कर देता , तो जानबूझकर गलती करता और क्लास से बाहर हो जाता, वो था दोस्त,   उसे चाहे जीरो मिले हो, पर मेरे नबंर ज्यादा आने पर, दुसरो को चिढाता , जिसके स्कूल ना आने पर, हर चीज़ अधुरी लगती थी, वो था दोस्त,   साईकल पर जो बैठा कर , पूरा शहर घुमाता, संग उसके मेले मे चाट खाने का मज़ा बहुत आता, क्रिकेट की पिच पर अगर वो साथ होता तो हर टारगेट पूरा कर लिया जाता वो था दोस्त,   अपने जन्मदिन पर सबको छोड कर, सबसे पहले जो मुझे केक खिलाता, मेरे गिफ्ट सबसे शानदार बताता, और रिट्न गिफ्ट दो चार ज्यादा ही दे देता वो था दोस्त,   कंधे पर जब हाथ उसका होता, दुनिया की हर चीज़ पर हक अपना होता, गलती होने पर जो डाटता भी और फिर वही गलती करता वो था दोस्त,   इश्क मे जब आंख भर आती, दिल टूट जाता , “अरे वो तेरे लायक नही