सचिन बस नाम ही काफी हैं -1

सचिन रमेश तेंडुलकर जी हा ये हैं क्रिकेट के भगवान का नाम.बल्लेबाजी के हर रिकार्ड उनके नाम हैं.चाहे एकदिवसीय क्रिकेट मे 200 रन बनाना हो, या सबसे ज्यादा शतक लगाना हो.

उनका हर शतक लाजवाब रहा हैं. उनके हर टेस्ट शतक को हम अपनी इस सीरिज-“ सचिन बस नाम ही काफी हैं” मे कवर करेंगे.
आज बात करते हैं उनके पहले शतक की .

सचिन ने अपना पहला टेस्ट शतक इंग्लैड के खिलाफ 1990 मे ओल्ड ट्रेफर्ड मे लगाया था. उन्होने अपने 9वे टेस्ट मे ही  अपना पहला शतक जड दिया था. उस वक्त उनकी उम्र सिर्फ 17 साल 112 दिन थी

भारत की टीम इंग्लैड के दौरे पर थी. ये टेस्ट उस सीरिज का दुसरा टेस्ट मैच था. सचिन का ये पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के बाद तीसरा विदेशी दौरा था. इस दौरे के पहले मैच मे सचिन लार्ड्स के मैदान पर दोनो पारियो मे महज 10 और 27 रन ही बना पाये थे.



First Test Century by Sachin in England

दुसरे टेस्ट मे इंग्लैड ने टास जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और अपनी पहली पारी मे 519 रन बनाये. जिसमे कप्तान ग्रेम गूच, अथर्टन और स्मिथ के शतक शामिल थे.

जवाब मे भारत ने पहली पारी मे कप्तान अजहर के 179, मांजरेकर के 93 और सचिन के 68 रन की बदौलत 432 रन बनाये.

इंग्लैड ने दुसरी पारी मे 4 विकेट खोकर 320 रन बनाये और पारी घोषित कर दी. जिसमे एलन लैम्ब के शानदार 109 रन शामिल थे.

भारत के सामने आखरी दिन 408 रन बनाने का लक्ष्य था. जब सचिन क्रीज पर आये तो भारत के 4 विकेट महज 109 रन पर गिर गये थे. 127 रन पर जब अजहर आऊट हुये तो लगा के ये मैच बचाना आसान नही होगा. सचिन और कपिल ने सभंलकर खेलना शुरु किया और दोनो के बीच 56 रन की साझेदारी हुई, परंतु इस साझेदारी मे 57वा रन बन पाता उसके पहले ही हेमिंग्स ने कपिल के डंडे बिखेर दिये. भारत का स्कोर 183/6 पर हो गया था. उस वक्त खेल खत्म होने मे ढाई घंटे बाकी थे.

लग रहा था अब भारत ये मैच हार जायेगा. पर एक युवा खिलाडी ने कुछ और ही ठान रखा था. जब वो 10 रन पर थे तब हेमिंग्स ने अपनी ही गेंदबाजी पर उनका कैच छोड दिया था. सचिन ने शानदार शतक लगाया और उस कैच की कीमत इंग्लैड को बता दी थी. सचिन ने प्रभाकर के साथ 160 रन की अविजीत साझेदारी करके मैच बचाया. भारत ने अपनी दुसरी पारी मे 343/6 बनाये. उन्होने नाट आऊट 119 रन बनाये और सबसे कम उम्र मे टेस्ट मे शतक लगाने वाले बल्लेबाजो की सूची मे उनका नाम दुसरे स्थान पर जुड गया था.उनसे कम उम्र मे शतक मुश्ताक मोह्म्मद ने बनाया था. उस टेस्ट मे सचिन ने भारत के महान बल्लेबाज गवास्कर के पैड्स पहनकर बल्लेबाजी करी थी.

इस टेस्ट मे वैसे तो 6 शतक लगे पर सारे शतको मे इस युवा खिलाडी का शतक लाजवाब था. उन्होने 224 मिनिट बल्लेबाजी करी और 17 बार गेंद को सीमारेखा से पार पहुचाया. उनकी इस पारी के लिये उन्हे मैन आफ द मैच के अवार्ड से नवाजा गया.

ये तो सिर्फ शुरुवात थी.बल्लेबाजी के सुरमा की, अगली कडी मे पढिये कैसे सचिन ने आस्ट्रेलिया के गेंदबाजी अटेक को उनके ही घर मे चकनाचूर कर दिया.

Comments