Thursday, 25 May 2017

Tapkeshwar Mandir



देहरादून डायरी- टपकेश्वर मंदिर


10 जून 2016 को जब मुझे ये पता लगा के मेरा सिलेक्शन डी.आई.टी यूनिवर्सिटी मे हुआ । तब मैंने सबसे पहले इस शहर के बारे मे ही सोचा और मेरी सोच मे ये शहर पहाडो पर बसा हुआ था । तेढे-मेढे रास्ते, पहाडो पर चढना और उतरना ,कुछ इसी तरह की कल्पना की थी मैंने और फिर जब गुगल देवता से पूछा तो शहर की एक भिन्न छवि मुझे दिखाई दी । खैर मैं शहर की इस वास्तविक छवि को देखकर उदास नही हुआ ।

 
26 जून 2016 को दोपहर तकरीबन 1 बजे मे देहरादून पहुच गया । जब आप किसी अंजान शहर मे पहली बार आते हो तो सोचते हो काश कोई पहचान का मिल जाये । मेरे साथ ठीक ऐसा ही हुआ मेरे दोस्त( शायद ये कहना ठीक नही होगा , क्योंकी उम्र मे वो मुझसे बडे है ) और मेरे पुराने कालेज़ के कलीग सुनिल आनंद सर मिल गये । वो यहा मुझसे पहले से किसी दुसरी युनिवर्सिटी मे पढा रहे है । सर वैसे ये जानते थे के मैं आने वाला हू और सन्योगवश वो भी यहा आ गये थे ।  उनसे बातचीत करने के बाद मे फिर यूनिवर्सिटी की बस मे बैठ कर चला गया ।  

 

Tapkeshwar Mandir

 

 
खैर अब सीधा उस बात पर आते है जिसके लिये ये पोस्ट लिख रहा हू । देहरादून डायरी मे , आप सब से मैं इस शहर और आसपास की जगहो और यहा की संस्कृति के बारे मे बात करुंगा । वैसे तो शुरुवात मे मैंने जो जगह यहा पर घुमी उसकी बजाये शुरुवात मैं एक ऐसी जगह से करुंगा जो इस शहर के पौराणिक महत्व को बतलाती है । फिर मैं बाबा महाकाल की नगरी से हू तो यहा भी शुरुवात उन्ही से की जाये ।

 

देहरादून मे एक बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर है “ टपकेश्वर महादेव “। ये मंदिर अनादिकाल से है । यहा गुफा मे भगवान भोलेनाथ विराज़मान है । यहा पर देवतागण भगवान शिव की आराधना करते और ध्यान लगाते थे ।



बाद मे ऋषि मुनियो ने भी भगवान भोलेनाश का ध्यान यही पर लगाया था । महाभारत काल के महान ऋषि गुरु द्रोणाचार्य ने भी यहा भगवान तपस्या की थी और यही वो मंदिर है जहा गुरु द्रोणाचार्य को तपस्या के धनुर्विद्दा का ज्ञान भगवान शिव से प्राप्त हुआ था । उसी के बाद इस नगर को द्रोण नगरी भी कहते है । गुरू द्रोणाचार्य के पुत्र अश्वथामा ने इस गुफा मे एक पांव के बल पर खडे होकर तपस्या की थी । छ:  मास बाद जब उनकी तपस्या पूर्णमासी की रात पूरी हुई और शिवलिंग पर दुध की धारा बहने लगे । कहते है कलयुग मे दुध का गलत इस्तेमाल होने लगा इसिलिये वो दुध अब जल मे परिवर्तित हो गया है । आज भी जल की धारा शिवलिंग पर गिरती है ।

 
जो लोग भगवान टपकेश्वर का दर्शन करते है उनके फल के बारे मे इस श्लोक मे लिखा है :-

 
“ तस्य दर्शन मात्रेण मृत्यू ते सर्वपालके “

 
Tapkeshwar Mandir

 

 
टपकेश्वर मंदिर आई.एस.बी.टी ( ISBT Dehradun) से 9-10 किलोमीटर दूर है और जाली ग्रांट एयरपोर्ट से 30 किलोमीटर दूर है । आप आटो या ओला करके यहा आ सकते है । ट्पकेश्वर मंदिर देहारादून के सबसे शांत और प्राकृतिक जगह है । मंदिर आने के लिये आप गढी कैंट भी आ सकते है । ये जगह टपकेश्वर मंदिर के काफी नज़दीक है ।






Tapkeshwar Mandir | Tapkeshwar Mandir Dehradun | Tapkeshwar Mandir Nashik | Tapkeshwar Mandir Photo | Tapkeshwar Mandir Timing | Tapkeshwar Mandir Image | Tapkeshwar Mandir History

Tapkeshwar Mandir Dehradun

Sunday, 21 May 2017

Ransomware Attack


तिरभिन्नाट पोहा-पप्पू भिया का लैपटाप


“ हैलो....... कौन “ अबे बारीक मैं बोल रिया हू । “ अरे वाह यार भिया गजब कर रीये हो , इधर से भी तो मैं ही बोल रिया हू ” । “ अबे ओ पंचर , मैं पप्पू बोल रिया हू रितिक “। “ अरे यार वो क्या है नी कल वो एक फिलम देखी तो उसी का डायलाग चिपका दिया, क्या आपकी आवाज़ नी पेचानेंगे क्या यार “। “  चल अब बत्ती मत दे, एक दम फटाफट से मेरे कने आजा “। “  क्यू यार भिया क्या हो गिया “। “ अरे तू आये नी यार और मैंने वो छोटू, उमेश ने टीनू को भी बोल दिया है वो भी आ रीये है “। “  हओ भिया बस अभी आया,  नी-नी करके पांच मिनिट मे पोच जाउंगा “।

 
टीनू,उमेश,छोटू और रितिक चारो पप्पू भिया के यहा पहुच गये । उन्होने देखा के पप्पू भिया अपने लैपटाप को घूरे जा रे थे । रितिक –“ पप्पू भिया क्या देख रे हो इस लैपटाप मे क्या कोई नयी फोटू आयी क्या ऐश की “। उमेश –“ ऐसा क्या भिया , दिखाना जरा “। उमेश ने लैपटाप देखा  और बाकी सब से कहा –“ पप्पू भिया हम पर शक कर रिये यार “। टीनू – “ कई वीयो तू असो काय वास्ते कई रीयो है “। उमेश – “ पप्पू भिया ने लैपटाप पर ताला लगा रखा है, ताकी हम ऐश भाभी को देख नी सके “। रितिक- “ पर यार तुम मानो नी मानो , भिया का लव जोरदार है , ऐश भाभी एक बच्चे की मॉ बन गी , पर भिया आज भी उसे अभिषेक से ज्यादा चाते है “।

Ransomware Attack

 

 
 पप्पू- “ अबे ओ गेलियो चुप करो , कोई फोटू नी आया है और ये ताला मैने नी लगाया है “। उमेश-“ फिर भिया ये क्या हो गया “। पप्पू – “ पता नी यार , सुबह जैसे ही अपन ने लैपटाप खोला तो ये ताला मिला ,मैंने पूरे घर मे ढूढ लिया पर साला चाबी नी मिली यार , मेरे को लग के अपन दिनभर इसको रांदते है इसिलिये अम्मा ने लगा दिया होगा ताला “ । टीनू- “ भिया अम्मा से पूच लो “। पप्पू – “ अरे पुछा था “। रितिक- “ तो क्या हुआ फिर “।



पप्पू भिया ने एक रख के दिया रितिक को और कहा –“ ये हुआ “। रितिक- “देखो भिया ये जो लिखा है – Ransomeware, इसमे भिया Ran का मिनिंग तो दौडना होता है , some का मिनिंग तो कुछ होता है , अब ये अगला समझ नी आ रिया है “ । उमेश- “भिया एक मिनिट रुको मैं जरा गुगुल चलाता हू, ये को मिनिंग देखता हू “।



टीनू- “ अबे वणे गुगल केते  है रे गेलिया “। उमेश ने सर्च लिया- “ भिया देखो ये जो ware लिखा है , इसका मिनिंग है – सामान “ । टीनू- “ तो इसका मतलब ये हुआ भिया के दौडतेकुछसामान “। उमेश- “ भिया मेरे को लगे वो दुसरे धरती के जीव है नी वो फिलम मे थे जो – जादू, वो तुमसे कुछ केना चा रिये है “।

 
 पप्पू भिया ने उमेश से मोबाइल लिया ने खुद सर्च किया वो भी पूरा लेटर एक साथ – “  अरे वो तुम लोग बस दिन मे दो बार पोहे खाओगे तो ये ही होगा, गेलियो ये तो कीडा लग गया वो अंग्रेजी मे जिसको वाईरस केते है नी वो और ये फिरोती वाईरस है “ रितिक- “ भिया इसको नी अपने राकेश भिया की दुकान पर ले चलो वो करते ये सब काम “।

 
राकेश भिया की दुकान पर ,पप्पू – “ भिया यार देखना ये कोई वाईरस ने ताला मार दिया है यार लैपटाप पर ने फिर चाबी भी नी दे रिया है “। उमेश- “ हा भिया दिमाग खराब हो रिया है यार “। राकेश ने देखते ही कहा –“ भिया एक मिनिट “, फिर उसने तबांकू थूका और कहा –“  भिया ये वायरस आया है नी इसने तुम्हारी सारी फाईल लाक कर दी है और अब तुम्हे अगर चाहीये तो 300 बिट्काईन मांग रिया है “ रितिक जोर से हसा और कहा –“ क्या गेलिया वाईरस है , इतनी मगज़मारी तीनसो सिक्के के लिये “ उमेश- “  भिया ऐसा लगे इसके घर मे शादी है और खुल्ले पैसे देने मे बैंक वाले ऐबलेपनती कर रिये होंगे तो इसने तुमसे मांग लिये “। राकेश- “  अरे वो लफ्नदरो , पगला गये हो क्या ,पप्पू भिया तुम भी कहा इनके साथ घुमते हो “। पप्पू ने घूर के सबको देखा ।

 
राकेश- “ भिया यार ये जो है नी बहुत बडा वाइरस है और 1 बिटकाईन मतलब अपने यहा के – 133621 रुपेये है और अब अगर तम्हे अपना डेटा चिये तो 300 बिटकाईन देने पडेंगे “  पप्पू भिया को पसीने आने लगे । रितिक – “ भिया, अभी हा के दो फिर ये पैसे लेने आयेंगा तो इसे घेर लेंगे और चाबी ले लेंगे “। राकेश- “ अबे ऐ फर्जी ये पैसा आनलाईन देना पडेंगा और पप्पू भिया तुम बताओ कल रात को क्या चला रिये थे इसमे “। पप्पू – “ अरे राकेश भिया वो तुम्हारी ऐश भाभी का मेल आया था ने उसमे लिखा था “ आई लव यू “ और साथ मे एक लेटर  भी था, अब अपन ने वो डाउनलोड किया ने फिर अचानक से अम्मा आ गई तो बस फटाफ़ट से लैपटाप बंद कर दिया ने सुबह देखा तो ये लफडा हुआ “।



राकेश जोर से हसा और कहा भिया तुम्हारा डेटा मैं ला दूंगा इसे बाहर भेजना होयेगा और 5 हजार खर्चा आयेगा “। पप्पू – “ कम मे नी होगा, देख लो “। राकेश –“  200 रुपये मे भी कर दुंगा फिर डाटा नी मिलेगा “। पप्पू ने भरे मन से कहा – “  चलो कर दो यार भिया , अब ऐश की फोटू मेरे दिल मे भी है उसीसे काम चला लूंगा “। रितिक –“  अरे उदास मत हो  भिया चलो मैं ला दुंगा ना तुमको भाभी की फोटू “ । पप्पू- “ अबे तेरे पास क्यो है ऐश की फोटू , भाभी पे लाईन मारता है “ रितिक- “अरे यार भिया क्या बात करा दी ,वो सारी फोटू तुम्हारे साथ है जो हमने बनवाई थी, चलो अब पोहे जलेबी खिलाओ” । सब लोग चले गये फिर पोहे खाने राजबाडे पर ।

 
तो भिया ये थे हमारे पप्पू भिया, कमेंट करना और बताना कैसा लगा इस बार का “तिरभिन्नाट पोहा” और हा फेसबूक ने और जगह लाईक और कमेंट देते रेना , चलो मिलते है फिर भिया ।

बाकी की तिरभिन्नाट पोस्ट पढने के लिये नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करो भिया

तिरभिन्नाट पोहा-इसके बिना जिंदगी खत्म भिया


 

तिरभिन्नाट पोहा-पप्पू भिया का रिजाईन


Chirag Ki Kalam

Ransomware Attack | Ransomware Attack 2017 | Ransomware Attack 2018 India | Ransomware Attack Meaning | Ransomware Attack Video | Ransomware Attack In Hindi

Friday, 12 May 2017

Poha Recipe | तिरभिन्नाट पोहा


तिरभिन्नाट पोहा-इसके बिना जिंदगी खत्म भिया


भियाओ…. कैसे हो सब लोग । क्या चल रिया है । तो मतलब ऐसे करोगे मतलब ... मैं देहरादून क्या आ गिया । तुम सब अपने को भूल ही गिये ।


बहुत दिन से सोच रिया था मैं के तुम सबसे बात करू वो क्या है नी के इधर एक तो लैंगवेज़ की दिक्कत है । अरे यार पार्टी तुम भी नी यार , लैंग्वेज़ नी समझे । अरे लैंगवेज़ याने भाषा अब ऐसा नी है के इधर हिंदी, अंग्रेजी नी बोलते पर अपना क्या है नी के अपन तो तरर्तराट है  हिंदी ने अंग्रेजी मे पर क्या है नी साला इधर कोई “ इंदौरी “ या “ मालवी “  नी बोलता यार ।




अब अपन तो क्या भिया उज्जैन के रेने वाले है । अब अपने को तो क्या है के कोई इंदौरी मे बात करे तो लगता है इज्ज्त दे रिया है  या फिर “ ओर कई मारसाब ,कई चाल रियो है “ । ऐसा के दे तो लगे के सम्मान दे रिया है । तो आज फिर सोचा अपन ने सोचा के तुम सब इंदौरी , उज्जैनी और अपने मालवा वालो से बात की जाये ने फेर कई अपणो मन भी तभीज़ लागे जब कोई अपणी लैंगवेज़ मे बात करे । अच्छा अब थोडा बता दू तुम सब छोकरा ओन के , के इसका नाम “तिरभिन्नाट पोहा” क्यो रखा । तो सुनो रे सब , अरे वो गुड्डू को बुला ले रे , दिनभर टेशन की सवारी ढूढ्ता रेता है । तो भिया ऐसा हुआ के अपन हर दिन की तरह दिन उगेज , पोहे की पलेट लईने बैठी गिया ने बडे आराम से अपन खा रिये थे । अचानक अपने को लगा के यार भिया जीरावन कम है तो जैसे ही अपन ने जीरावन डाला और पोहे खाये ये आईडिया भिन्नाते हुये अपने दिमाग मे आ गिया तो फिर अपन ने ज्यादा सोचा नी और रख दिया नाम “तिरभिन्नाट पोहा” ।

 

Poha Recipe

 
तो भिया इस “तिरभिन्नाट पोहा” मे अपन कोशिश करेंगे के हर हफ्ते बात करते रहे ने फिर कभी किसी हफ्ते अपन नी आ पाये तो तुम भेज देना एक “तिरभिन्नाट पोहा” अपन उसे चिपका देंगे अपने ब्लाग पे ।

 
तो भिया अपन जो है 27 जून 2016 को देहरादून आये ने फिर क्या है 26 जून 2016 को अपन उज्जैन से चले तो अपन ने साम के नी-नी करते सात बजे नागदा मे पोहे खाये थे । अब जब 27 जून को 1 बजे अपन यहा आये तो अपने को दो चीज़ की तलब लगी एक तो चाय ने दुसरा पोहा । अपन ने सोचा के चलो अभी तो  यूनिवर्सिटी चलते है फिर देखेंगे वहा जा के ने करेंगे कोई जुगाड । तो भिया अगले दिन यूनिवर्सिटी मे जाईन हो गये ने फिर एक हफ्ते मे अपन ने घर ले लिया किराये पे । अब क्या है के सात दिन हो गये ने पोहे नी खाये तो रविवार के दिन तो ऐसी तलब लगी पोहे की के क्या बताऊ मतलब आप मानोगे नी , सिर घुमने लगा ने चक्कर आये ,बिस्तर से उठा नी जाये ।


फिर भी अपन चले बज़ार अब अपने को डाऊट तो था के यहा कहा पोहा मिलेगा पर अपन जो है नी है तो बाबा महाकाल के भक्त । एक लोटा भांग पीने के बाद अपना कानफ़िडेंस तो टपकता लगने लगता है और फिर भांग नी पियो ने जैसे ही “ जय श्री महांकाल “ बोले अपने कानफिडेंस की तो नदीया बहती है तो अपन जो है “ जय श्री महांकाल बोलके ” ने निकल लिये बज़ार मे । अपन सबसे पेले तो एक ठैले वाले के पास गिये उससे की मैंने “भिया एक कट देना “ तो पता है उसने क्या किया ? वो बोले “ भाईजी चाय पीनी है “ । मेरा मन तो हुआ के उसे सुनाऊ फिर सोचा चाय पीले फिर चमकायेंगे ।


अब चाय आयी ने अपने ने उससे कहा के “ भिया एक प्लेट पोहा भी दे देना “ उसने मुझे ऐसे देखा, जैसे अपन ने जने क्या मांग लिया हो । उसने कहा –“ यहा पोहा नही मिलता , हम पोहा नही बनाते “ मैंने कहा  “ ठीक है यार , तुम नही बनाते , पर ये हम मतलब और कौन है जो नही बनाता अभी बता दो फालतू चक्कर नी काटने पडेंगे  “ उसने कहा – “ भाईजी हम तो नही बनाते , बाकी का पता नही , आप वो आगे वाले ठेले पर चले जाईये और “मोमो” का नाश्ता कर लिजीये “। मैंने सोचा ये कौंन-सी नयी डिश आ गई है ।


 
खैर मैं वो जगह छोड कर आगे गया और आप मालिक विस्वास नी करोगे नी-नी करके पूरा देहरादून घूम लिया पर कही भी पोहा नी मिला ।  थक गया,  फिर देखा के एक दुकान पर समोसे बन रहे थे । मैंने सोचा कोई नही पोहा ना सही समोसा ही सही । उसने समोसा दिया , अब वो दिखने मे तो ठीक दिख रिया था । अरे पर जैसे ही मैंने पहला कोर खाया लगा के समोसा है या बडी मठरी । समोसे मे पूरे मे अजवाईन का स्वाद आ रिया था और जैसे ही मैंने मसाला खाया ,मेरे को लग गिया के भिया यहा खाने को नी मिले ।



ऊ हू ,कच,कच ऐहे ऐहे बिल्कूल नी मिले । अब कई थकी हारी के मणे वणती की के लाला थोडी चटनी दई दे  । मतलब मानोगे नी आप भिया चटनी थी के परफ्यूम की बोतल ,अलग ही खूशबू आ रही थी । ने बस खूशबू ही आ रही थी । आखिर मे मेरी नज़र जलेबी पे टीकी मैंन सोचा की ये तो पूरे भारत मे मिलती है ये तो बढिया होगी । भिया जैसे ही पेला  टुकडा मुह मे रखा , बस मेरे तो आखो मे आसू आ गये , बस फिर मे चुपचाप दुकान से कच्चे पोहे ले के ने रुम पे गया ।  जाके ने बनाये फिर पोहे ने सेव डाल डाल के खाये ने हर स्वाद मे इंदौर उज्जैन के पोहे जलेबी वाले बहुत याद आये ।

 
तो भिया था एक किस्सा “तिरभिन्नाट पोहा” का आगे और भी बकर करेंगे ने मिलते रहेंगे । अच्छा अब अपने कमेंट्स जरुर देना क्योंकी भिया यहा देहरादून मे तुम ही और कौन है अपना ।  चलो भिया फिर मिलेंगे किसी नये विषय पर बात करेंगे ।

बाकी की तिरभिन्नाट पोस्ट पढने के लिये नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करो भिया


 

तिरभिन्नाट पोहा-पप्पू भिया का लैपटाप


 

तिरभिन्नाट पोहा-पप्पू भिया का रिजाईन



Youtube Chirag Ki Kalam

Poha Recipe | Poha Recipe In Hindi | Poha Recipe Video | Poha Recipe In English | Poha Recipe Without Oil In Hindi | Poha Recipe Youtube | Poha Recipe Without Onion | Poha Recipe Step By Step

Monday, 8 May 2017

Whatsapp Status | आपका Whats App स्टेट्स क्या है ?


आपका Whats App स्टेट्स क्या है ?



जिंदगी मे आपके नाम से आपकी पहचान हो जरुरी नही है । परंतु सोशल मिडिया पर आपके पहचान आपके स्टेट्स हो ये अक्सर होता है । फेसबूक हो या व्हाट्सएप वहा आपने क्या पोस्ट की है या क्या स्टेट्स लिखा है , हर कोई इनसे ही आपके बारे मे विचार बनाता है क्योंकी ये एक काल्पनिक दुनिया है । यहा पर आप सिर्फ अपनी प्रोफाइल से लोगो मे जाने जाते है और प्रोफाइल मे स्टेट्स बहुत अहम जगह रखता है ।


 
सबसे ज्यादा दिक्क्त आती है व्हाट्सएप पर जहा आपका स्टेट्स आपके हर दिन की सोच बताता है । त्योहारो पर तो हम बधाई संदेश लिख देते है परंतु बाकी दिन क्या करे ? कई लोगो ने तो जब से व्हाट्सएप का उपयोग शुरु किया है तब से आज तक एक ही स्टेट्स है “ Hey , there I am using Whats APP”  यही स्टेट्स डाल रखा है । कल ही मैं अपने दोस्त से इस बारे मे बात कर रहा था के आखिर रोज़-रोज़ नये स्टेट्स कहा से लाये और फिर मेरे दोस्त ने इसका जवाब दिया और जब मैंने वो वेबसाईट देखी तो लगा अब कभी-भी कोई भी व्हाट्सएप स्टेट्स चाहिये तो यही से लिया जायेगा । चलिये आज मैं आपको उस वेबसाईट के बारे मे बताऊंगा । साथ ही कैसे और कौन – कौन से स्टेट्स आप उपयोग कर सकते है वो भी हम देखेंगे । 

 

 
वेबसाईट का नाम है “ whatsstatus.com” इस वेबसाईट पर 60 से ज्यादा कैटेगरी मे स्टेट्स मिलेंगे यानी अब आप जैसा चाहे वैसा स्टेट्स यहा से ले सकते है । इन 60 कैटेग़री मे 1600 से ज्यादा स्टेट्स आप को मिल जायेंगे । हर रोज नये-नये और एकदम अलग स्टेट्स ईस वेबसाईट पर डाले जाते है ।

 

कुछ स्टेट्स मैंने आपके लिये साईट से निकाले है देखिये : -


 
Whatsapp Status

Good Day Status
Whatsapp Status

Birthday Status
Whatsapp Status

Food Status

 
इन स्टेट्स के अलावा और भी कई कैटेगरी है जैसे: -

 

 

 

 

 
इस साईट पर आप सिर्फ स्टेट्स पढ कर ही उपयोग नही कर सकते है । आप इस साईट से पैसे भी कमा सकते है । इसके लिये आपको साईट पर अपना अकाऊंट बनाना होगा  ।

 
सबसे पहले “ whatsstatus.com” पर जाकर “ submit status”  पर क्लिक करीये

 
Whatsapp Status

Submit Status
इसके बाद अकाउंट बनाइये और लाग-इन करीये ।

 
Whatsapp Status

Create Account
Whatsapp Status

Log-In
लाग-इन करने के बाद अपना स्टेट्स डाल सकते है और इंतेजार करीये अपने स्टेट्स के अप्रूव होने का और जैसे ही आपका स्टेट्स अप्रूव हो गया आपको हर पहले 200 अप्रूव स्टेट्स तक हर स्टेट्स का 1 रुपया मिलेगा और उसके बाद हर अप्रूव स्टेट्स के लिये आपको 2 रुपये मिलेंगे .

 
Whatsapp Status


 
इस साईट पर तकरीबन 1000 लोग है जो स्टेट्स लिख रहे है और अब तक 17000 रुपये उन लोगो को स्टेट्स लिखने के लिये दिये जा चुके है ।

 
इस साईट पर जाईये और नये-नये स्टेट्स को उपयोग किजीये और अगर आपके दिमाग मे कोई स्टेट्स आता है तो उसे वेबसाईट पर लिखिये और कमाईये ।

 

 
इस वेबसाईट को विजिट करने के लिये यहा क्लिक करीये : - “ Whatsapp” .                      Whatsapp Status | Whatsapp Status Video | Whatsapp Status In Hindi | Whatsapp Status Download | Whatsapp Status Attitude | Whatsapp Status Song | Whatsapp Status Sad