Posts

Showing posts from December, 2011

College Short Story | बदलता दौर

Image
  रविवार का दिन था. दोपहर का समय था. खाना खाने के बाद अखबार से गुफ्तुगू कर रहा था. बीच- बीच में नींद भी अपने आने का सन्देश  झपकियो से भेज रही थी. पर बालीवुड और शहर की चटपटी खबरे मुझे जगाने में सहयोग कर रही थी.    तभी मेरा 7 वी कक्षा में पढने वाला लड़का कमरे में आया और कहने लगा " डैड ( जी हां अब बाउजी, पिताजी और पापा शब्द गुज़रे  ज़माने की बात हो गई हैं) आज तो मज़ा आ गया."    मैंने पुछा " क्या हुआ कोई प्रतियोगिता जीती क्या तुमने "   उसने कहा " नहीं डैड, actually आज रिया ने हां कर दी, अब वो मेरी गर्लफ्रेंड हैं."         उसकी ये बात सुनकर थोड़ी देर तक तो मुझे समझ नहीं आया फिर अपने आप को सँभालते हुए मैंने कहा "बेटा ये उम्र पढने की हैं, गर्लफ्रेंड बनाने की नहीं"   उसने कहा "ओ डैड आप भी ना ज़माने के साथ चलिए, मेरे क्लास में तो हर लड़के की गर्लफ्रेंड हैं, चलिए मैं अभी जा रहा हूँ रिया के साथ डेट हैं आज"   डेट... हमारे ज़माने में तो इसका अर्थ सिर्फ तारीख होता था.   मेरे बेटे के जाते ही मुझे अपने दिन याद आ गए, वो रामू की दूकान पर बैठ कर चाय पीते थे. लडक