Friday, 25 March 2011

Poetry For Moon | गुजारिश इतनी सी ....


ऐ चाँद आज धीरे चल,

चाँदनी के साथ तू भी मचल 


आज तू तारो को भी रोक ले ,

मदहोश हो जा तू भी मोहब्बत के नशे में 

 

Poetry For Moon




ऐ चाँद आज अमावस तो नहीं हैं 

फिर भी तू कही छुप जा 

क्योंकि मेरा महबूब अपने होठो को ,

मेरे लबो से मिलाने से शरमा रहा हैं 

 

नजरो से नजरे चुरा रहा हैं 

आज मेरा प्यार मुझे बुला रहा हैं 

 

ऐ चाँद आज बिजलियो से कह दे  

के चमक जाये ,

ताकि मेरा महबूब मेरी बाहों से दूर न जाये 

 

ऐ चाँद आज कुछ ऐसा कर 

के ये रात खुशनसीब बन जाये 

 

आज ढलने ना दे रात को 

सूरज को भी उगने से रोक ले 

 

आज मेरी चाहत के खातिर 

बस इतना कर दे ...

(चिराग )



Poetry For Moon | Poetry For Moon In Urdu | Poetry For  Him | Husband From Wife In Urdu | Moon Healing | High School |  Moon Hamd In Urdu




5 comments:

  1. Beautiful as always.
    It is pleasure reading your poems.

    ReplyDelete
  2. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    ReplyDelete
  3. bhut hi acchi kavita hai... very nice...

    ReplyDelete
  4. You have a magic with words...

    ReplyDelete
  5. Wow, thanks for sharing.. :)
    CONTEST TIME:

    Check out my new post and leave an answer for the question asked in the comments section. The best answer will win Amazon voucher worth INR 750/-
    Last date: 26th November 2015. - 11 pm IST
    Contest partners: Tata Motors.
    http://www.fashionablefoodz.com/my-inspiration/

    ReplyDelete

ब्लाग पर आने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद