Thursday, 17 February 2011

Friendship Poem | दोस्ती एक प्यारा रिश्ता




एक दिन मेरे खुदा ने मुझसे पूछा ,

क्या हैं ये दोस्ती ,
क्यो बनाता हैं तू दोस्त ,
ऐसा क्या हैं इस रिश्ते मैं ,
जो नही हैं लहू के रिश्ते में ।


मैंने खुदा से कहा ,
एक भरोसा हैं दोस्ती ,
एक विश्वास हैं दोस्ती ,
जो मुश्किलों में दे साथ ,
वो परछाई हैं दोस्ती ।

इन चीजों से क्या होता हैं ,
ये सब तो लहू के नातो में भी मिल सकता हैं ,
फ़िर क्यो करता हैं तू दोस्ती ,
क्यो करता हैं अपनो से ज्यादा विश्वास दोस्त पर ।

Friendship Poem
मेरे खुदा ,
आज भाई -भाई से लड़ रहा हैं ,
बेटा पिता को मार रहा हैं ,
लहू के रिश्तो में लहू हैं ,
इसीलिए हर कोई अपनो का लहू बहा रहा हैं ।


मेरी दोस्ती तो प्रेम का रिश्ता हैं ,
तभी उसमे प्रेम रस बहता हैं ।

दोस्ती की क्या मिसाल दूँ मैं ,
दो जिस्म एक जान हैं दोस्ती ,
आज के इस कलयुग में ,
तुम्हारे होने का अहसास हैं दोस्ती ।

सच कहा बन्दे तुने ,
दोस्ती की असली पहचान हैं तुझे
तू और तेरी दोस्ती सलामत रहे हमेशा ,
यही हैं मेरी दुआ हैं तुझे 
(चिराग )



Poems On Rain | बूंद


Confession to Parents


Friendship Poem | Poem In Hindi | Poem In English | Poem For Kids | Poem In Telugu | Poem In Tamil | Friendship Poem Download | Poem For Her | Poem By Rabindranath Tagore

9 comments:

  1. बहुत बढ़िया,
    बड़ी खूबसूरती से कही अपनी बात आपने.....
    पूरी कविता दिल को छू रही है !

    ReplyDelete
  2. वाह ! बेहद खूबसूरती से कोमल भावनाओं को संजोया इस प्रस्तुति में आपने ...

    ReplyDelete
  3. दोस्ती की क्या मिसाल दूँ मैं ,
    दो जिस्म एक जान हैं दोस्ती ,
    आज के इस कलयुग में ,
    तुम्हारे होने का अहसास हैं दोस्ती ।


    सच में यही है दोस्ती ..बहुत कुशलता से परिभाषित किया है आपने आपका आभार

    ReplyDelete
  4. सच है कई बार दोस्त वो काम कर जाते हैं जो अपने नहीं कर paate ......

    ReplyDelete
  5. @sanajy ji
    thanks ji dosti k naam hain ye kavita

    ReplyDelete
  6. वाह दोस्त कविता पढ़कर मज़ा आ गया .कविता दिल को छू रही है !

    ReplyDelete
  7. बहुत कुशलता से परिभाषित किया है आपने आपका आभार

    ReplyDelete

ब्लाग पर आने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद