Posts

चलने दो राहो में आज

ग़ज़ल - महफ़िल

बदलता दौर

खवाहिशे

आज़ादी क्या हैं ?

इश्क होता हैं दोस्ती के बाद

कुछ बातें

काश वापस आ जाये

वो अंजाना चेहरा -4

वो अंजाना चेहरा -3

वो अंजाना चेहरा -2

वो अंजाना चेहरा-1

शब्द

छोटी सी ख्वाहिश

मेरे महबूब

ईमानदारी की जुबानी

गुजारिश इतनी सी ....

चाँद की कहानी

मुन्नी-4

मुन्नी -3

मुन्नी-2

मुन्नी-1

दो पल

दोस्ती एक प्यारा रिश्ता .....