Posts

MI VS RCB IP 2021-1st Match

Image
  शर्माजी के  लडके  ने नही तोड़ा रिवाज तो भिया शुरु हो गया है IPL , और इसकी शानदार शुरुवात हुई MI vs RCB के मैच के साथ ।   विराट कोहली ने हाल ही मे महाकाल मंदिर मे पूजा करवाई ने फिर कालभैरव मंदिर मे भी एक दम रायल प्रसाद चढ़ाया ।   ये सब इसलिये नही किया के IPL जीतना है | ये तो इसलिये के बस टास जीते । बाबा महाकाल और भैरव बाबा का आशीर्वाद काम भी आया और जीत गये कोहली भिया टास । वैसे कोहली ने उसके बाद उस सिक्के को रख लिया है और गांगुली को दिया है ताकी आने वाली World Test Championship मे इसी से टास किया जाये ।   इसके बाद बैटिंग आयी MI की ने वो De Cock भिया तो Quarantine है तो इसिलिये Chris Lynn को उतारा शर्मा जी के लडके ने Opening मे । शर्माजी के लडके ने आदतन अनुसार सुस्त शुरुवात की । रोहित भिया अक्सर ऐसा ही करते है के ये ठीक वैसे है जैसे शुरु मे कम पढाई का नाटक करो ने धीरे से कोचिंग join करके बाद मे टाप कर जाओ । खैर Chris Lynn ने सही बैटिंग की ने पूरी कोशिश की के अब जब De Cock भिया आयेंगे वापस तो उनकी जगह इन्हे ना हटाये ।   पर इनका जाना तो तय है क्योंकि ये गली के वो खिलाड़ी है तो जिसे

बर्फ में बर्फ खाने(Barf mein Barf Khane)

Image
 तुमको पाने के रास्ते कई थे, कौनसा चुनता बस यही परेशानी थी, या तो हाथ पकड़ लेता  और सीधा कह देता या दोस्त से 50 रुपये  उधार लेकर गुलदस्ता ले आता, वैसे तुमको रबड़ी की चुस्की  बहुत पसंद थी, पर तुम अक्सर गर्मियों में चली जाती थी नानी के यहाँ तुम्हारी नानी का घर शिमला में था अब बर्फ में बर्फ कौन खाता है पर मेरे वहा आने में अभी 8 साल और है, जब बड़े हो जाएंगे हम तब चलेंगे शिमला तुम्हारी नानी से मिलने और बर्फ में बर्फ खाने तुम बस ऐसी ही रहना मैं पता नही कैसा रहूंगा लड़के बड़े होने पर लड़कियों को, चीज़ कहने लगते थे कल पड़ोस वाले भैया एक दीदी को माल भी कह रहे थे मैं कही उन जैसा हो जाऊ, तो मार देना एक थप्पड़  जोर से गाल पर मेरे जैसे उन दीदी ने भैया को मारा था उसके बाद जो भैया ने कहा उसे सुनकर समझने के लिए मेरी उम्र बहुत छोटी है तुम जल्दी समझ जाओगी माँ कहती है लडकिया जल्दी बड़ी हो जाती है तुम मुझसे पहले ये सब समझ जाओगी और अगर समझ आये  तो मुझे भी समझाना क्योंकि मुझे तुम्हारे  साथ बर्फ में बर्फ खाना है।

माचिस की डिब्बी

Image
दो महिने से चल रहे Lockdown मे हर कोई कुछ ना कुछ नया कर रहा है | कुछ लोग अपने परिवार के साथ वक्त बिता रहे है | साथ ही कई लोग अपने पुराने किस्से अपने बच्चो को भी सुना रहे है | बच्चे भी अपने परिवार के सिनियर्स के बारे मे जानकार सोच रहे है के ये अपने बडे लोग तो बहुत बडे वाले है | वैसे जहा तक मै अपनी बात करू तो Work From Home मे Online ही Students को पढा रहा हू और खाली वक्त जो भी मिल रहा है उसमे कुछ ना कुछ लिख रहा हू | मेरी बेटी अभी 3.5 साल की है और उसके लिये घर मे इतने दिन दोस्तो और स्कूल के बगैर रहना एक बहुत मुश्किल कार्य है | इसिलिये अपने खाली वक्त का समय उसके लिये भी निकालता हू | अपने खाली वक्त मे priority पर अपनी बेटी के साथ समय बिताना सबसे पहले आता है | अभी जिस उम्र मे मेरी बेटी है | उस उम्र मे बच्चे आपसे कई सवाल करते है और अधिकतर इन सवालो के जवाब पता होते हुये भी बच्चे को समझाना मुश्किल होता है क्यॊकि हर जवाब मे वो दुसरा सवाल दाग देते है | ये महाभारत के अर्जुन के बाणॊ से भी तेज आपके पास आते है | आप अपने धनुष को सम्भालो इतने मे अगला सवाल तीर की तरह सीधा आपके पास आकर

Women World T20 2020

Image
फाइनल का इंतेजार क्यू ? हमारे देश मे महिलाओ को देवी का दर्जा दिया जाता है । समाज मे उनकी एक खास जगह रहती है क्योंकी वो एक मॉ , बहन , बेटी , बहू और भी कई रुप मे इस समाज़ मे एक अहम योगदान देती है । परंतु फिर भी पूरा देश उनके साथ तब ही खडा होता है जब उनके साथ कोई भयावक हादसा हो जाता है । निर्भया और लक्ष्मी SAA ऐसे ही उदाहरण है । ऐसा नही है के ये स्थिती तब ही है जब उनके साथ कोई हादसा हो , ऐसा तो तब भी होता है जब वो समाज़ मे अपना कोई स्थान बनाने की कोशिश करती हो । महिलाये जब भी किसी भी श्रेत्र मे आगे बढने की कोशिश करती है शुरुवात  मे  हमेशा उन्हे नज़रअंदाज़ करके पीछे धकेला जाता है । फिर जब वो एक किसी श्रेत्र मे उच्च स्थान पा लेती है तब फिर हर कोई उनकी तारीफ करता है । मेरा मानना है के उन्हे अगर शुरु से ही अगर सही से प्रोत्साहन  मिले  तो वो उपलब्धियो को कई गुना बढा देगी   । ये सब बाते आज इसिलिये कर रहा हू क्यूंकी 2017 मे हमने काफी देर कर दी थी । उस वक्त अगर थोडा जल्दी हमने उनका support करना शुरु कर देते तो शायद तस्वीर बदल जाती ।   Indian Men Cricket Team चाहे कितने भी मैचेस हा

U-19 Cricket World Cup Final

Image
वजह कुछ और है वैसे तो बहुत दिनो से कोई लेख लिखा नही है । फिर भी दिमाग मे विचार तो कई सारे घुमते रहते है । उन्ही विचारो मे से एक कचरा निकाल के परोस देता हू आप सबके सामने और कचरा इसलिये कह रहा हू के कहा कोई आजकल लेख पढता है । कम से कम 5 बार शेयर करूंगा दो दिन तक वाट्स-अप पर डाल के रखूंगा के देखो मैंने कुछ लिखा है   तब जाके नी-नी करके 200 लोग तो अपना स्टेट्स देख ही लेंगे । हा अपने पास भतेरे नबंर है । पर उन 200 मे से 4 भी ब्लाग पर आ कर कमेंट कर दे मान जाऊंगा । चलो खेर ये तो अपन ने थोडा माहोल जमाने के लिये लिख दिया है । पर अपने को मालूम है जो स्टेट्स देख के रिपलाई करेगा वो भी एक वो मुस्कुराता   हुआ गुड्डा भेज देगा और कुछ तो हाथ ही जोड लेंगे फिर ये सोचते रहो के यार इसने हाथ जोडे क्यो अगली बार से लिखे के नही । अब अपन अपनी बात पर आते है । अभी थोडे दिन पहले ही U-19 Cricket World Cup खत्म हुआ ने उसमे बांगलादेश ने तो कमाल ही कर दिया मतलब फाइनल मे पहली बार आये और आते ही खिताब अपने नाम कर लिया । वहा उनके देश मे अब तक दिवाली मना रहे है और लोग कह रहे है के आने वाले टी-20 वर्ल्ड कप मे इ

MS DHONI: A STORY SEEN BY EVERYONE IN INDIA

Image
15 साल और वो भिंडी की सब्जी  उस वक्त हम अपने नये घर मे शिफ्ट हूये थे और कुछ दिनो तक केबल का कनेक्शन भी नही लगा था । मालवा की चिलचिलाती गर्मी मे दूरदर्शन ही एक सहारा था और जब क्रिकेट का मैच हो तो दूरदर्शन स्टार स्पोर्ट्स लगने लगता था । तब  “फेयर एंड लवली  “ प्रेसेण्ट्स “फोर्थ अपांयर “  के एस्पर्ट्स कमेंट सुनकर लगता था बस अभी सचिन को संस्यास ले लेना चाहिये ।    खैर इस गर्मी मे भी अगर क्रिकेट मैच टी.वी पर आये और वो भी India vs Pakistan तो फिर ऐसा लगता है जन्न्त और कही नही यही है । वैसे भी 12वी पास करके और IIT-JEE का स्क्रिनिंग देके वेले बैठे थे ।   India vs Pakistan सिरीज़ का ये दूसरा वन-डे   था । वैसे तो इसके पहले कई मैच देखे थे India vs Pakistan के पर इस मैच मे कुछ खास था । एक खिलाडी खेल रहा था । जिसके बारे मे   , मैं अखबारो और कभी कभार दूरदर्शन और आकाशवाणी की न्यूज़ मे टटोलता रह्ता था । जिन दोस्तो के यहा केबल था वो बताते थे के सबसे तेज़ चैनल पर उसकी खूब तारीफ हो रही थी । मैं उस खिलाडी को अच्छा खेलते हुये बस इसिलिये देखना चाहता था के   जब से क्रिकेट देखा था , तब   से अब तक हर

दो दिन की छुट्टी

Image
“वर्मा   जी दो दिन से दिखाई नही दे रहे है“ –थोडा सा परेशान होते हुये शर्मा जी ने किराना दुकान के मालिक महेश से पूछा । “ हा शर्मा जी दो दिन से दुकान पर भी नही आये , दो दिन बाद राखी भी है “ –दुकानदार ने वर्मा जी के ना आने को अपने 1000रुपये के   नुकसान   का सोचकर बोला ।   शर्मा जी – “ हा मैं इसिलिये आज आ गया   और कल तो आराम ही कर रहा था , समझ मे नही आ रहा था के क्या करू ? “ “अरे शर्मा जी आप भी ना अरे दो दिन की छुट्टी और ले लो , ने निकल जाओ कही घुमने “ – महेश ने कहा और अपनी मूंछ पर ये सोचकर ताव दिया के अगर वो ये बात शर्मा जी को नही बताता तो शायद शर्मा जी के जीवन की बहुत ही खास   छुट्टीया बर्बाद हो जाती   । तभी दूर से अपने जाने –पह्चाने झोले   को लेकर वर्मा जी आते हुये दिखे । वर्मा जी के के पास वैसे कई झोले थे पर हर झोला एक से   एक था ।   उनके हर झोले पर किसी ना किसी   स्वतंत्रा   सेनानी की तस्वीर   होती थी   । “ अरे वर्मा जी कहा थे दो दिन से , हर रविवार   की तरह   कल आप हम लोगो की नाश्ता   पार्टी मे भी नही आये “-शर्मा जी   ने ऐसे पूछा जैसे देर रात आये अपने बेटे से पुछते